मुख्य पृष्ट arrow अन्य जानकारी arrow गण्डात नक्षत्र
दिनमान लघु पंचांग
मुख्य पृष्टपंचांगचौघडियाँमुहूतॅआरती संग्रहव्रत त्योहारभजन संग्रहराशिफलखोजेंअन्य जानकारीहमें सम्पर्क करें
Saturday, October 21 2017
मुख्य मैन्यु
मुख्य पृष्ट
पंचांग
चौघडियाँ
मुहूतॅ
आरती संग्रह
व्रत त्योहार
भजन संग्रह
राशिफल
खोजें
अन्य जानकारी
हमें सम्पर्क करें
गण्डात नक्षत्र पी.डी.एफ़ छापें ई-मेल

                                                        गण्डात नक्षत्र .........

Image

भारतीय ज्योतिष में संधिकाल या संक्रमणकाल सदैव अशुभ माना गया हैं | संधि से

मतलब दो परस्पर ग्रह, नक्षत्र , राशियों का समाप्तीकाल और दुसरों का प्रारंभकाल से माना गया हैं |

सर्वविदित हैं कि जब दो ऋतुयें परस्पर मिलती हैं तो उसी समय दुनियाँ में रोग ज्यादा

फैलते हैं | दिन और रात्री के संधिकाल में भजन किर्तन करना उपयुक्त होता हैं |

जब देश और राज्य की सरकारे बदलती हैं तो उस समय भी संक्रामण काल के कारण

प्रजा को कष्ट मिलता हैं |ज्योतिष में भी संधिकाल स्थिती के अनेक उदाहरण देखने

मिलते हैं | जैसे संक्रातीसंधि, नक्षत्रसंधि ,राशिसंधि, लग्नसंधि , भावसंधि आदि हैं |

इन संधियो में जन्में जातको को काफी कठनाईयों का सामना करना पडता हैं |

इन्ही संधियो में शुभकार्य , विवाह, यात्रा करना वर्जित हैं |

इसी प्रकार छः नक्षत्र ऐसे है जहाँ राशिसंधि और नक्षत्रसंधि एक साथ आते हैं |

इन्ही को गंडात नक्षत्र कहते हैं | रेवती अश्वनी से मीन और मेष की संधी बनती हैं |

अश्लेषा व मघा से कर्क और सिंह की संधि बनती हैं | ज्येष्ठा व मूल से वृश्चिक तथा

धनु की संधी बनती हैं | यदि इन राशी पर हम ध्यान दे तो मेष ,धनु , सिंह अग्नि

तत्ववाली राशियाँ हैं |कर्क, वृश्चिक, मीन जलचरवाली राशियाँ हैं | अश्वनी मघा मूल

नक्षत्रों के स्वामी केतु हैं और ये तमोगुणी हैं | रेवती ,अश्लेषा व ज्येष्ठा का स्वामी

बुध हैं और ये स्वभाव से रजोगुणी हैं | अतः नक्षत्रों की जोडियाँ रेवती , अश्लेषा ,

मघा , तथा ज्येष्ठा मूल ये गडांत कहलाते हैं | ज्येष्ठा मूल और अश्लेषा बडे मूल

कहलाते हैं | मघा , रेवती , अश्विनी छोटे मूल कहलाते हैं बडे मूल में जन्मे जातको

का जन्म के २७ वें दिन जब चंद्रमा उसी नक्षत्र में आता हैं तब मूल शांति कराई

जाती हैं | छोटे मूलो की शांति १० वें या १९ वें दिन जब उसी स्वामी का

दूसरा या तीसरा नक्षत्र आता हैं तब कराई जाती हैं | ज्येष्ठा नक्षत्र की अंतिम १ घडी
अर्थात २४ मिनिट तथा मूल नक्षत्र की प्रारंभ की १ घडी अभूक्त घडी कहलाते हैं |

अश्वनी नक्षत्र के प्रथम चरण में जन्म होने के कारण पिता को कष्ट , दूसरे चरण में ऐश्वर्य,

तिसरे चरण में उच्चपद , तथा चोथे चरण में राज्य सम्मान मिलता हैं | अश्लेषा नक्षत्र में

प्रथम चरण में राज्य सुख , द्वितीय में धन हानि , तृतीय में माता को कष्ट, चतुर्थ में

पिता को कष्ट रहता हैं | मघा में पहले चरण में माता को कष्ट , दूसरे में पिता को

कष्ट , तिसरे में सुख संपत्ति और चोथे में धन लाभ रहता हैं | ज्येष्ठा के प्रथम चरण

में भाई को कष्ट , द्वितीय में अनुज को पीङा , तृतीय में माता को कष्ट चतुर्थ में

स्वयं कष्ट पाता हैं | मूल नक्षत्र के प्रथम में पितु कष्ट , दुसरे में माता को पीङा ,

तिसरे में धन नाश , चोथे में धन लाभ होता हैं | रेवती में पहले चरण में राज्य सम्मान ,

दुसरे में राज्य सुख , तिसरे में सुख संपदा पर चोथे में स्वयं को कष्ट रहता हैं |

दुसरे में राज्य सुख , तिसरे में सुख संपदा पर चोथे में स्वयं को कष्ट रहता हैं |

                         अतः मूल शांति किसी विद्वान पंडीत से करानी चाहियें |

 
< पिछला   अगला >
© 2017 दिनमान लघु पंचांग