दिनमान लघु पंचांग
मुख्य पृष्टपंचांगचौघडियाँमुहूतॅआरती संग्रहव्रत त्योहारभजन संग्रहराशिफलखोजेंअन्य जानकारीहमें सम्पर्क करें
Wednesday, September 26 2018
मुख्य मैन्यु
मुख्य पृष्ट
पंचांग
चौघडियाँ
मुहूतॅ
आरती संग्रह
व्रत त्योहार
भजन संग्रह
राशिफल
खोजें
अन्य जानकारी
हमें सम्पर्क करें
पंचक पी.डी.एफ़ छापें ई-मेल
                                       पंचक ......         

                                           निष्ठा पंचकं त्याज्यम्, तृण काष्ठादि संग्रहे।

                              त्याज्या दक्षिण दिग्यात्रा, गृहच्छादन मेव च।।

          धनिष्ठा का आधा भाग शतभिषा ,पुर्वा एवम् उत्तरा भाद्रपद और रेवती इन नक्षत्रों को पंचक संज्ञक नक्षत्र कहा गया है। इस समय में तृण और काष्ठ (कडीका संग्रह करे , दक्षिण दिशा मे यात्रा करें तथा घर की छत नही बनानी चाहिए ।दि किसी की पंचक में मृत्यु हो जाये तो पंचक शांती करानी चाहिए अन्यथा परिवार किसी अन्य की मृत्यु भी संभव हो सकती है । दाह संस्कार के समय पहले , पाँच पुतले बनाकर , पहले उनका दाह करें तत्पश्चात  शव का दाह करें । सपिण्डन श्राद्ध के दिन विधी -विधान से किसी योग्य विद्वान पंडित से पंचक शांती करावें ।
 
< पिछला   अगला >
© 2018 दिनमान लघु पंचांग