मुख्य पृष्ट arrow आरती संग्रह arrow ।।आरती श्री गणेशजी की ।।
दिनमान लघु पंचांग
मुख्य पृष्टपंचांगचौघडियाँमुहूतॅआरती संग्रहव्रत त्योहारभजन संग्रहराशिफलखोजेंअन्य जानकारीहमें सम्पर्क करें
Sunday, December 10 2017
मुख्य मैन्यु
मुख्य पृष्ट
पंचांग
चौघडियाँ
मुहूतॅ
आरती संग्रह
व्रत त्योहार
भजन संग्रह
राशिफल
खोजें
अन्य जानकारी
हमें सम्पर्क करें
।।आरती श्री गणेशजी की ।। पी.डी.एफ़ छापें ई-मेल

Image

"Play Sound" (Mini-MP3-Player 1.2 ©Ute Jacobi)

व्रकतुंड महाकाय, सूर्यकोटी समप्रभाः |  

निर्वघ्नं कुरु मे देव,सर्वकार्येरुषु सवर्दा ||

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा |

माता जाकी पार्वती,पिता महादेवा || जय गणेश देवा...

एक दन्त दयावंत चार भुजा धारी 

माथे पर तिलक सोहे  मुसे की सवारी || जय गणेश देवा...

पान चढ़े फुल चढ़े और चढ़े मेवा

लड्डुवन का भोग लगे  संत करे सेवा || जय गणेश देवा...

अंधन को आखँ देत कोढ़ियन को काया

बांझन को पुत्र देत निर्धन को माया 

सुर श्याम शरण आये सफल किजे सेवा || जय गणेश देवा...

जय गणेश जय गणेश  जय गणेश देवा

माता जाकी पार्वती पिता महादेवा ||  जय गणेश देवा...

 
अगला >
सुविचार

माला फेरत जुग भया, मिटा न मन का फेर | कर का मनका छोड दे, मन का मनका फेर ||

 
© 2017 दिनमान लघु पंचांग