मुख्य पृष्ट arrow आरती संग्रह arrow श्री सत्यनारायण स्वामी जी की आरती
दिनमान लघु पंचांग
मुख्य पृष्टपंचांगचौघडियाँमुहूतॅआरती संग्रहव्रत त्योहारभजन संग्रहराशिफलखोजेंअन्य जानकारीहमें सम्पर्क करें
Monday, October 23 2017
मुख्य मैन्यु
मुख्य पृष्ट
पंचांग
चौघडियाँ
मुहूतॅ
आरती संग्रह
व्रत त्योहार
भजन संग्रह
राशिफल
खोजें
अन्य जानकारी
हमें सम्पर्क करें
श्री सत्यनारायण स्वामी जी की आरती पी.डी.एफ़ छापें ई-मेल
  Image

ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी जय लक्ष्मीरमणा |

सत्यनारायण स्वामी जन पातक हरणा॥ ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी..... 

 रत्नजडित सिंहासन अद्भुत छवि राजें |

नारद करत निरतंर घंटा ध्वनी बाजें॥ ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी.....

प्रकट भयें कलिकारण द्विज को दरस दियो |   

बूढों ब्राम्हण बनके कंचन महल कियों॥ ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी.....

दुर्बल भील कठार, जिन पर कृपा करी |

च्रंदचूड एक राजा तिनकी विपत्ति हरी॥ ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी.....

 वैश्य मनोरथ पायों श्रद्धा तज दिन्ही |

सो फल भोग्यों प्रभूजी फेर स्तुति किन्ही॥ ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी.....

भाव भक्ति के कारन छिन छिन रुप धरें |

 श्रद्धा धारण किन्ही तिनके काज सरें॥ ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी.....

ग्वाल बाल संग राजा वन में भक्ति करि |

मनवांचित फल दिन्हो दीन दयालु हरि॥ ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी.....

 चढत प्रसाद सवायों कदली फल मेवा |

 धूप दीप तुलसी से राजी सत्य देवा॥ ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी.....

सत्यनारायणजी की आरती जो कोई नर गावे |

ऋद्धि सिद्धी सुख संपत्ति सहज रुप पावे॥ ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी.....

 ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी जय लक्ष्मीरमणा |

 सत्यनारायण स्वामी जन पातक हरणा॥


 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 


 
 


 

 


 

 
< पिछला   अगला >
सुविचार

माला फेरत जुग भया, मिटा न मन का फेर | कर का मनका छोड दे, मन का मनका फेर ||

 
© 2017 दिनमान लघु पंचांग