मुख्य पृष्ट arrow आरती संग्रह arrow श्री नवदुर्गा रक्षामंत्र
दिनमान लघु पंचांग
मुख्य पृष्टपंचांगचौघडियाँमुहूतॅआरती संग्रहव्रत त्योहारभजन संग्रहराशिफलखोजेंअन्य जानकारीहमें सम्पर्क करें
Tuesday, November 20 2018
मुख्य मैन्यु
मुख्य पृष्ट
पंचांग
चौघडियाँ
मुहूतॅ
आरती संग्रह
व्रत त्योहार
भजन संग्रह
राशिफल
खोजें
अन्य जानकारी
हमें सम्पर्क करें
श्री नवदुर्गा रक्षामंत्र पी.डी.एफ़ छापें ई-मेल
 

"Play Sound" (Mini-MP3-Player 1.2 ©Ute Jacobi)

ॐ शैलपुत्री मैया रक्षा करो
ॐ जगजननि देवी रक्षा करो
ॐ नव दुर्गा नमः
ॐ जगजननी नमः

ॐ ब्रह्मचारिणी मैया रक्षा करो
ॐ भवतारिणी देवी रक्षा करो
नव दुर्गा नमः
जगजननी नमः

ॐ चंद्रघणटा चंडी रक्षा करो
ॐ भयहारिणी मैया रक्षा करो
नव दुर्गा नमः
जगजननी नमः

ॐ कुषमाणडा तुम ही रक्षा करो
ॐ शक्तिरूपा मैया रक्षा करो
नव दुर्गा नमः
जगजननी नमः

ॐ स्कन्दमाता माता मैया रक्षा करो
ॐ जगदम्बा जननि रक्षा करो
नव दुर्गा नमः
जगजननी नमः

ॐ कात्यायिनी मैया रक्षा करो
ॐ पापनाशिनी अंबे रक्षा करो
नव दुर्गा नमः
जगजननी नमः

ॐ कालरात्रि काली रक्षा करो
ॐ सुखदाती मैया रक्षा करो
नव दुर्गा नमः
जगजननी नमः

ॐ महागौरी मैया रक्षा करो
ॐ भक्तिदाती रक्षा करो
नव दुर्गा नमः
जगजननी नमः

ॐ सिद्धिरात्रि मैया रक्षा करो
ॐ नव दुर्गा देवी रक्षा करो
नव दुर्गा नमः
जगजननी नमः

Image

"Play Sound" (Mini-MP3-Player 1.2 ©Ute Jacobi)

 कर्पूरगौरं करुणावतारं संसारसारं भुजगेन्द्रहारं |

सदा वसन्तं ह्रदयाविन्दे भंव भवानी सहितं नमामि ॥

जय शिव ओंकारा हर ॐ शिव ओंकारा |

ब्रम्हा विष्णु सदाशिव अद्धांगी धारा ॥ ॐ जय शिव ओंकारा......

एकानन चतुरानन पंचांनन राजे | हं

सासंन ,गरुड़ासन ,वृषवाहन साजे॥ ॐ जय शिव ओंकारा......

दो भुज चारु चतुर्भज दस भुज अति सोहें |

तीनों रुप निरखता त्रिभुवन जन मोहें॥ ॐ जय शिव ओंकारा......

अक्षमाला ,बनमाला ,रुण्ड़मालाधारी |

चंदन , मृदमग सोहें, भाले शशिधारी ॥ ॐ जय शिव ओंकारा......

श्वेताम्बर,पीताम्बर, बाघाम्बर अंगें |

सनकादिक, ब्रम्हादिक ,भूतादिक संगें॥ ॐ जय शिव ओंकारा......

कर के मध्य कमड़ंल चक्र ,त्रिशूल धरता |

जगकर्ता, जगभर्ता, जगसंहारकर्ता ॥ॐ जय शिव ओंकारा...... 

ब्रम्हा विष्णु सदाशिव जानत अविवेका |

प्रवणाक्षर मध्यें ये तीनों एका ॥ ॐ जय शिव ओंकारा......

काशी में विश्वनाथ विराजत नन्दी ब्रम्हचारी |

नित उठी भोग लगावत महिमा अति भारी ॥ ॐ जय शिव ओंकारा......

त्रिगुण शिवजी की आरती जो कोई नर गावें |

कहत शिवानंद स्वामी मनवांछित फल पावें ॥ॐ जय शिव ओंकारा.....

. जय शिव ओंकारा हर ॐ शिव ओंकारा|

ब्रम्हा विष्णु सदाशिव अद्धांगी धारा॥ ॐ जय शिव ओंकारा......

 
< पिछला   अगला >
सुविचार

जो मेरे भाग्य में नहीं हैं, वो मुझे दुनियाँ की कोई भी शक्ति नहीं दे सकती और जो मेरे भाग्य में हैं उसे दुनियाँ कोई भी शक्ती छीन नहीं सकती हैं |

 
© 2018 दिनमान लघु पंचांग