मुख्य पृष्ट arrow व्रत त्योहार arrow फाल्गुन शुक्ल पक्ष आमला एकादशी
दिनमान लघु पंचांग
मुख्य पृष्टपंचांगचौघडियाँमुहूतॅआरती संग्रहव्रत त्योहारभजन संग्रहराशिफलखोजेंअन्य जानकारीहमें सम्पर्क करें
Tuesday, August 22 2017
मुख्य मैन्यु
मुख्य पृष्ट
पंचांग
चौघडियाँ
मुहूतॅ
आरती संग्रह
व्रत त्योहार
भजन संग्रह
राशिफल
खोजें
अन्य जानकारी
हमें सम्पर्क करें
फाल्गुन शुक्ल पक्ष आमला एकादशी पी.डी.एफ़ छापें ई-मेल

Image

व्रत कथा

आमल की एकादशी फालगुन मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को मनायी जाती है। आँवले के वृक्ष में भगवान का निवास होता हैं  इसलिए इस दिन आँवले के वृक्ष के नीचे बैठकर भगवान का पूजन किया जाता हैं ।

प्राचीन काल में भारत में चित्रसेन नामक राजा राज्य करता था । उनके राज्य में एकादशी व्रत का प्रचलन था । प्रजा एवं राजा एकादशी का व्रत रखते थें । एक दिन राजा चित्रसेन शिकार खेलते खेलते दूर निकल गए । वहाँ पर जंगली जातियो ने उन पर आक्रमण कर दिया । उनके शस्त्रो अस्त्रो का उनपर कोई प्रभाव नही पडा । यह देखकर जंगली चकित रह गए । देखते देखते जंगली जाति के आदमियो के संख्या बढ गई । तो उनके आक्रमण से राजा चित्रसेन संज्ञाहीन होकर पृथ्वी पर गिर पडे । पृथ्वी पर गिरते ही राजा के शरीर से एक दिव्य शक्ति प्रकट हुई जो समस्त राक्षसो को मारकर अदृष्य हो गई । जब राजा की मुर्छा टुटी तो उन्हे सब राक्षस मृत पडे दिखाई दिये । वे बडे आश्चर्य में पडकर सोचने लगे कि इन्हे किसने मारा है तभी आकाशवाणी हुई,” यें समस्त राक्षस तुम्हारे आमला एकादशी व्रत के प्रभाव के कारण मारे गए हैं।“ यह सुनकर राजा बहुत प्रसन्न हुआ तथा अपने राज्य में उसने आमला एकादशी के व्रत का प्रचार करवाया ।

 
< पिछला   अगला >
© 2017 दिनमान लघु पंचांग