मुख्य पृष्ट arrow भजन संग्रह arrow भोर भई दिन चढ़ गया मेरी अम्बे,
दिनमान लघु पंचांग
मुख्य पृष्टपंचांगचौघडियाँमुहूतॅआरती संग्रहव्रत त्योहारभजन संग्रहराशिफलखोजेंअन्य जानकारीहमें सम्पर्क करें
Monday, October 23 2017
मुख्य मैन्यु
मुख्य पृष्ट
पंचांग
चौघडियाँ
मुहूतॅ
आरती संग्रह
व्रत त्योहार
भजन संग्रह
राशिफल
खोजें
अन्य जानकारी
हमें सम्पर्क करें
भोर भई दिन चढ़ गया मेरी अम्बे, पी.डी.एफ़ छापें ई-मेल

                   Image    

भोर भई दिन चढ़ गया मेरी अम्बे,

हो रही जय जयकार  मन्दिर विच,

आरती जय माँ.,

हे दरबारा वाली आरती जय माँ,

हे पहाडा वाली आरती जय माँ,


काहे दी तेरी मैया आरती बनावा,

काहे दी पावा विच  बाती  

मन्दिर विच आरती जय माँ

हे सोहे चोलेवाली  आरती जय माँ

हे पहाडा वाली आरती जय माँ


सर्व  सोने दी तेरी आरती बनावा

अगर  कपूर  पावा बाती मन्दिर विच

आरती जय माँ

हे माँ पिंडी रानी आरती जय माँ

हे पहाडोवाली आरती जय माँ


कोनसुहागन दिवा  बालिया मेरी मैया

कोन जागेगा सारी  रात मंदिर विच

आरती जय माँ

सचिया ज्योतावाली आरती माँ

हे पहाडावाली आरती माँ


सर्व सुहागन दिवा बालिया मेरी मैया

ज्योत जागेगी सारी रात मंदिर विच

आरती जय माँ

हे माँ चिंतारानी  आरती  जय माँ

हे पहाडावाली आरती जय माँ


जुग जुग जिए तेरा जम्मुबे  दा राजा

जिस  तेरा भवन  बनाया मंदिर  विच 

आरती जय माँ

                                                                     हे माँ अम्बे  रानी आरती जय माँ

हे पहाडावाली आरती जय माँ


सिमरन चरण तेरा ध्यान  यश  गावे

जो ध्यावे सो यो फल पावे

रख पाने दी लाज मंदिर विच

आरती जय माँ.,

सोने  मंदिरा वाली

हे पहाडा वाली आरती जय माँ,


भोर भई दिन चढ़ गया मेरी अम्बे,

हो रही जय जयकार  मन्दिर विच,

आरती जय माँ,

हे दरबारा वाली आरती जय माँ

हे पहाडा वाली आरती जय माँ,

 
< पिछला   अगला >
© 2017 दिनमान लघु पंचांग