मुख्य पृष्ट arrow व्रत त्योहार arrow आसमाता की व्रतकथा
दिनमान लघु पंचांग
मुख्य पृष्टपंचांगचौघडियाँमुहूतॅआरती संग्रहव्रत त्योहारभजन संग्रहराशिफलखोजेंअन्य जानकारीहमें सम्पर्क करें
Wednesday, August 16 2017
मुख्य मैन्यु
मुख्य पृष्ट
पंचांग
चौघडियाँ
मुहूतॅ
आरती संग्रह
व्रत त्योहार
भजन संग्रह
राशिफल
खोजें
अन्य जानकारी
हमें सम्पर्क करें
आसमाता की व्रतकथा पी.डी.एफ़ छापें ई-मेल
                            

एक आसलिय बावलिया नाम का आदमी था । उसे जुआ खेलने का शौक था । इसके साथ साथ वह ब्राह्यणो को भोजन कराता था । उसकी इस आदत से उसकी भाभियो ने उसे घर से निकाल दिया । वह घुमता हुआ एक शहर मे पहूँच गया । वह आसमाता का नाम लेकर एक जगह बैठ गया । उसने आस पास के आदमियो के द्वारा शहर में प्रचारित करवा दिया कि एक उच्च कोटि का जुआ खेलने वाला आया हैं । यह बात राजा तक भी पहुच गई । राजा ने उसे जुआ खेलने  के लिए बुलाया । जुए में राजा अपना राजपाट सब कुछ हार गया । आसलिया बावलिया राजा  को जुए में हराकर स्वयं राजा बन गया । इधर आसलिया बावलिया के घर पर भोजन का अकाल पड गया । जब घर वालो को यह पता चला कि उनका भाई राजा को हराकर स्वय राजा बन गया है तो उसके भाई-भावज माता उसको देखने शहर गए । अपने बेटे को राजा बना देखकर माँ की आखो में आसू आ गए । राजा ने अपनी माता के चरर्ण स्पर्श किए । तब उनकी माँ ने उनसे कहा कि, ”मैं आसमाता का उजमन करूँगी“। तब सब लोगो ने घर जाकर आसमाता का उजमन किया । उसके बाद आसलिय बावलिया को राज पाट दिया, वैसे ही सबकी मनोकामना पूरी करना ।

 

 
 
< पिछला   अगला >
© 2017 दिनमान लघु पंचांग