मुख्य पृष्ट arrow भजन संग्रह arrow बडी देर भई नंदलाला
दिनमान लघु पंचांग
मुख्य पृष्टपंचांगचौघडियाँमुहूतॅआरती संग्रहव्रत त्योहारभजन संग्रहराशिफलखोजेंअन्य जानकारीहमें सम्पर्क करें
Wednesday, November 14 2018
मुख्य मैन्यु
मुख्य पृष्ट
पंचांग
चौघडियाँ
मुहूतॅ
आरती संग्रह
व्रत त्योहार
भजन संग्रह
राशिफल
खोजें
अन्य जानकारी
हमें सम्पर्क करें
बडी देर भई नंदलाला पी.डी.एफ़ छापें ई-मेल

Image

बडी देर भई नंदलाला ,तेरी राह तके ब्रजबाला

ग्वाल बाल एक एक से पूछे ,कहाँ हैं मुरलीवाला रे...

कोई ना जाये कुंज गलिन में तुझ बिन कलियाँ चुनने को....

तरस रहे हैंऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽ ओऽऽ

तरस रहे हैं जमुना के तट ,धुन मुरली की सुनने को ४

अब तो दरश दिखा दे रे ,नटखट क्यूँ दूविधा में डाला रे

संकट में हैं आज वो धरती ,जिस पर तुमने जन्म लिया

पूरा कर देऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽओऽऽ

पूरा कर दे आज वचन जो गीता में हैं तूने दिया

कोई नहीं तुझ बिन मोहन भारत का रखवाला रे........बडी देर भई

बडी देर भई नंदलाला ,तेरी राह तके ब्रजबाला....

ग्वाल बाल एक एक से पूछे ,कहाँ हैं मुरलीवाला रे...

 
< पिछला   अगला >
© 2018 दिनमान लघु पंचांग