मुख्य पृष्ट arrow भजन संग्रह arrow पायो जी मैंने, राम रतन धन पायो ..
दिनमान लघु पंचांग
मुख्य पृष्टपंचांगचौघडियाँमुहूतॅआरती संग्रहव्रत त्योहारभजन संग्रहराशिफलखोजेंअन्य जानकारीहमें सम्पर्क करें
Tuesday, August 22 2017
मुख्य मैन्यु
मुख्य पृष्ट
पंचांग
चौघडियाँ
मुहूतॅ
आरती संग्रह
व्रत त्योहार
भजन संग्रह
राशिफल
खोजें
अन्य जानकारी
हमें सम्पर्क करें
पायो जी मैंने, राम रतन धन पायो .. पी.डी.एफ़ छापें ई-मेल

             Image

पायो जी मैंने, राम रतन धन पायो ..

वस्तु अमोलिक, दी मेरे सतगुरु, किरपा करि अपनायो

जनम जनम की पूंजी पाई, जग में सभी खोवायो

खरचै न खूटै, जाको चोर न लूटै, दिन दिन बढ़त सवायो

सत की नाव, खेवटिया सतगुरु, भवसागर तर आयो

मीरा के प्रभु गिरिधर नागर, हरष हरष जस गायो...

 
< पिछला   अगला >
© 2017 दिनमान लघु पंचांग