मुख्य पृष्ट arrow भजन संग्रह arrow इक दिन गिरजा शिव से बोली
दिनमान लघु पंचांग
मुख्य पृष्टपंचांगचौघडियाँमुहूतॅआरती संग्रहव्रत त्योहारभजन संग्रहराशिफलखोजेंअन्य जानकारीहमें सम्पर्क करें
Monday, October 23 2017
मुख्य मैन्यु
मुख्य पृष्ट
पंचांग
चौघडियाँ
मुहूतॅ
आरती संग्रह
व्रत त्योहार
भजन संग्रह
राशिफल
खोजें
अन्य जानकारी
हमें सम्पर्क करें
इक दिन गिरजा शिव से बोली पी.डी.एफ़ छापें ई-मेल

                                                                         

 

Image

"Play Sound" (Mini-MP3-Player 1.2 ©Ute Jacobi)

इक दिन गिरजा शिव से बोली मैं ये समझ ना पाई प्रभू

महल दिये भक्तों को अपनी कुटीया काहे बनाई प्रभू

तुम त्रिलोकीनाथ हो
स्वामी घट घटवासी अंतर्यामी

ऋषि मुनि भी कहते सारे तुम सृष्टि के पालनहारे

फिर किस कारण अपने तन तुम ने भस्म रमाये प्रभूजी,.....

देव तुम्हारे ध्यान लगाये श्री चरणों में शिश झुकाये

मनचाहे वरदान दिये हैं सब को पृष्पविमान दिये हैं

तुम्हे सवारी नंदी गण की ना जाने क्यों भाई प्रभूजी....

भेद ये क्या हैं मैं ना जानी लोग कहे क्यों ओ घरदानी

क्यों डेरे कैलाश पर डाले
तु ही जाने डमरुवाले

मस्तक चंदा और जटा में गंगा क्यों बसाई प्रभूजी......

 
< पिछला   अगला >
© 2017 दिनमान लघु पंचांग